11.1 C
Delhi
Wednesday, February 1, 2023

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 26 गुमनाम नायकों को मिला पद्म सम्मान

Must read


(फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर बुधवार को डॉक्टर दिलीप महालनाबिस सहित 26 गुमनाम नायकों को प्रतिष्ठित पद्म सम्मान दिए जाने की घोषणा की गई. महालनाबिस 1971 के बांग्लादेश युद्ध के शरणार्थियों के शिविरों में सेवा करने के लिए अमेरिका से लौटे और दुनिया भर में ‘‘ओआरएस” घोल के उपयोग को बढ़ावा दिया जिससे पांच करोड़ से अधिक लोगों की जान बच सकी.

यह भी पढ़ें

अधिकारियों ने बताया कि पश्चिम बंगाल के महालनाबिस (87) को मरणोपरांत इस साल देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए चुना गया है. पद्म पुरस्कारों के लिए घोषित नामों में महाराष्ट्र से 12, कर्नाटक और गुजरात से आठ-आठ व्यक्ति शामिल हैं.

अंडमान निकोबार के सेवानिवृत्त सरकारी डॉक्टर रतन चंद्र कार, सामाजिक कार्यकर्ता हीराबाई लोबी, पूर्व सैनिक मुनीश्वर चंदर डावर को पद्मश्री के लिए चुना गया है. रतन चंद्र कार निकोबार द्वीप समूह में जारवा जनजाति के साथ काम कर रहे हैं वहीं डावर मध्य प्रदेश में हाशिए पर के लोगों की सेवा में जुटे हैं.

नगा सामाजिक कार्यकर्ता रामकुइवांगबे न्यूमे को पद्म श्री के लिए चुना गया है. उन्होने जागरूकता शिविरों और कार्यक्रमों के जरिए स्वदेशी हेराका संस्कृति का संरक्षण और प्रचार किया एवं 10 प्राथमिक विद्यालयों की स्थापना की और महिलाओं की शिक्षा को प्रोत्साहित किया.

पद्म श्री के लिए चुने गए लोगों में ‘कन्नूर के गांधी’ वीपी अप्पुकुट्टन पोडुवल के साथ ही सांप पकड़ने वाले मासी सदाइयां और गोपाल और सिक्किम के जैविक किसान तुला राम उप्रेती भी शामिल हैं.

यह भी पढ़ें –

जामिया में BBC डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग के ऐलान के बाद 10 छात्र हिरासत में लिए गए

राणा अय्यूब को फिलहाल राहत, SC ने गाजियाबाद कोर्ट से सुनवाई टालने का आग्रह किया

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Featured Video Of The Day

क्या NARCO को दिया जा सकता है चकमा ? जानें – क्यों उठ रहा है ये सवाल



Source link

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article