7.1 C
Delhi
Friday, January 27, 2023

कितने साल तक जिंदा रह सकता है इंसान? दुनिया के उम्रदराज इंसान की मौत बाद एक्सपर्ट्स के सामने यूं खुलने लगे राज

Must read



Is there a limit on how long a healthy human can live? एक सवाल, इंसान कितने साल तक जिंदा रह सकता है. मनुष्यों के जीवनकाल और अधिकतम उम्र को लेकर अक्सर पूछे जाने वालों सवालों का जो जवाब दिया जाता है इंसान ने उससे ज्यादा सालों तक जिंदा रह कर उसे कई बार धत्ता बता दिया है. हाल ही में ऐसा एक बार फिर देखा गया. 118 साल की उम्र में दुनिया के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति की मौत ने एक बहस को फिर से शुरू कर दिया है, जिसने सदियों से वैज्ञानिकों को बांटा हुआ है कि क्या कोई सीमा है, जितने सालों तक कोई स्वस्थ इंसान जीवित रह सकता है?

गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अनुसार, फ्रेंच नन ल्यूसिल रैंडन (French nun Lucile Randon ) के पिछले हफ्ते निधन के बाद, 115 वर्षीय स्पेनिश परदादी मारिया ब्रान्यास मोरेरा (Maria Branyas Morera) ने सबसे बुजुर्ग जीवित व्यक्ति का खिताब ग्रहण किया है.

18वीं शताब्दी में, फ्रांसीसी प्रकृतिवादी जॉर्जेस-लुईस लेक्लेर, जिन्हें कॉम्टे डी बफन के नाम से जाना जाता है, ने सिद्धांत दिया कि एक व्यक्ति जिसे दुर्घटना या बीमारी का सामना नहीं करना पड़ा था, वह सैद्धांतिक रूप से अधिकतम 100 वर्षों तक जीवित रह सकता है. ज्यादा चाय, कॉफी कर सकती है नुकसान, ऐसे करें अपनी कैफीन की क्रेविंग को कंट्रोल

तब से, चिकित्सा प्रगति और जीवित रहने की स्थिति में सुधार ने इस सीमा को कुछ दशकों तक और पीछे धकेल दिया.

इसमें एक नया मील का पत्थर तब बना जब साल 1995 में एक फ्रांसीसी महिला जीन कैलमेंट ने अपना 120वां जन्मदिन मनाया. अब तो फिर से हम उसी सवाल के सिरे पर आ पहुंचे थे कि आखिर एक इंसान की उम्र कितनी होती है और वह कितने सालों तक जिंदा रह सकता है. इसी सवाल को लेकर आगे बढ़ते हैं…. तो पाते हैं कि कैलमेंट की दो साल बाद 122 वर्ष की आयु में मृत्यु हो गई. वह अब तक जीवित रहने वाली सबसे बुजुर्ग व्यक्ति बनी हुई है – कम से कम जिनके बारे में पता है या जिसे सत्यापित किया गया है. 

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 2021 में 100 साल या उससे अधिक आयु के अनुमानित 593,000 लोग थे, जो एक दशक पहले 353,000 थे.

स्टेटिस्टा डेटा एजेंसी के अनुसार, अगले दशक में शताब्दी की संख्या दोगुनी से अधिक होने की उम्मीद है.

तो क्या नेचुरल लिमिट 115 साल मानी जाए?

तो हम कितनी दूर जा सकते हैं या यूं पूछें कि इंसान कितने साल तक जिंदा रह सकता है? क्या हमारी नेचुरल एज लिमिट 115 मानी जाए, तो इस पर वैज्ञानिक असहमत हैं, कुछ का कहना है कि हमारी प्रजातियों का जीवनकाल सख्त जैविक बाधाओं द्वारा सीमित है.

2016 में, जर्नल नेचर में लिखने वाले आनुवंशिकीविदों ने कहा कि 1990 के दशक के बाद से मानव दीर्घायु में कोई सुधार नहीं हुआ है.

वैश्विक जनसांख्यिकीय डेटा का विश्लेषण करते हुए, उन्होंने पाया कि कैलमेंट की मृत्यु के बाद से अधिकतम मानव जीवनकाल में गिरावट आई है – भले ही दुनिया में अधिक बुजुर्ग लोग थे.

फ्रांसीसी जनसांख्यिकीविद् जीन-मैरी रॉबिन ने एएफपी को बताया, “उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि मानव जीवनकाल की प्राकृतिक सीमा होती है और दीर्घायु लगभग 115 वर्षों तक सीमित होती है.”

2018 में हुए शोध में पाया गया कि जहां उम्र के साथ मौत की दर बढ़ती है, वहीं 85 के बाद यह धीमी हो जाती है.

शोध में कहा गया है कि 107 साल की उम्र के आसपास, मृत्यु दर हर साल 50-60 प्रतिशत पर पहुंच जाती है.

“इस सिद्धांत के तहत, अगर 110 वर्ष की आयु के 12 लोग हैं, तो छह 111, तीन से 112, और इसी तरह जीवित रहेंगे,” रोबिन ने कहा. इस Vitamin की कमी से नहीं आती रात को नींद, यहां है Sleeping Time बढ़ाने में मददगार फूड्स की लिस्ट

नंबर गेम 

लेकिन जितने अधिक सुपरसेंटेरियन होंगे, उतनी ही अधिक संभावना होगी कि कुछ लोगों को इसे रिकॉर्ड उम्र तक जीने के लिए जीना होगा.

रोबिन ने कहा कि अगर 100 सुपरसेंटेरियन हैं, तो “50 111 वर्ष, 25 से 112 तक जीवित रहेंगे.” 

”फिर भी दीर्घायु के लिए अब कोई निश्चित सीमा नहीं है.”

हालांकि, रोबिन और उनकी टीम इस साल में  इस शोध को प्रकाशित कर रहे हैं, जो यह दर्शाएगा कि मृत्यु की दर 105 वर्ष की आयु के बाद भी बढ़ती जा रही है.

Pregnancy After Menopause: मेनोपॉज के बाद भी बन सकती हैं मां, ये है तरीका, सक्सेस रेट 80%…

क्या इसका मतलब यह है कि हम कितने समय तक जीवित रह सकते हैं, इसकी एक सख्त सीमा है? रोबिन इतनी आगे नहीं जाएंगे. उन्होंने कहा, “हम हमेशा की तरह खोज करना जारी रखेंगे, और धीरे-धीरे सबसे बुजुर्ग लोगों के स्वास्थ्य में सुधार होगा.”

दूसरे विशेषज्ञों का पक्ष भी जानना जरूरी है. कितनी खतरनाक होती हैं योनि में गांठ (फुंसी)? कैसे पहचानें वेजाइनल सिस्ट के लक्षण, एक्सपर्ट से जानिए सब कुछ

फ्रेंच इंस्टीट्यूट ऑफ डेमोग्राफिक स्टडीज (आईएनईडी) के एक जनसांख्यिकीविद् फ्रांस मेस्ले ने कहा, “फिलहाल कोई निश्चित जवाब नहीं है.”

उन्होंने एएफपी को बताया, “भले ही वे बढ़ रहे हैं, बहुत वृद्धावस्था तक पहुंचने वाले लोगों की संख्या अभी भी काफी कम है और हम अभी भी कोई महत्वपूर्ण सांख्यिकीय अनुमान नहीं लगा सकते हैं.”

और निश्चित रूप से कुछ भविष्य की चिकित्सा सफलताएं जल्द ही मृत्यु के बारे में हम जो कुछ भी जानते हैं उसे बदल सकते हैं.

बुजुर्गों में विशेषज्ञता रखने वाले एक फ्रांसीसी डॉक्टर एरिक बूलैंगर ने कहा कि “आनुवंशिक हेरफेर” कुछ लोगों को 140 या 150 साल तक जीने की अनुमति दे सकता है.



Source link

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article