पंजाब के दो जिलों में कोविड-19 टीकाकरण का पूर्वाभ्यास संपन्न

3


प्रतीकात्मक तस्वीर

चंडीगढ़:

पंजाब में तय किए गए दो जिलों लुधियाना एवं नवांशहर में कोरोना वायरस के टीके के वितरण एवं प्रबंधन को लेकर दो दिवसीय पूर्वाभ्यास मंगलवार को संपन्न हो गया.अधिकारियों ने बताया कि टीकाकरण व्यवस्था और स्वास्थ्य प्रणाली की जांच के मकसद से यह पूर्वाभ्यास किया गया. पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा था कि यह पूर्वाभ्यास हमें टीके के वितरण एवं प्रबंधन से जुड़ी खामियों से अवगत कराएगा और टीकाकरण अभियान से पहले इन्हें दुरुस्त किया जा सकेगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस पूर्वाभ्यास की योजना पंजाब, गुजरात, असम एवं आंध्र प्रदेश के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के साथ मिल कर बनायी थी .

यह भी पढ़ें

लुधियाना के उपायुक्त वरिंदर कुमार शर्मा ने बताया कि जिला प्रशासन ने कोविड-19 टीके के संबंध में पूर्वाभ्यास सफलता पूर्वक संपन्न किया . उन्होंने बताया कि लुधियाना जिले में पूर्वाभ्यास सात स्थानों पर सफलता पूर्वक संपन्न हो गया . इन स्थानों में लुधियाना सदर अस्पताल, दयानंद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल, रायकोट, जगरांव, माछीवाड़ा, खन्ना एवं पायल शामिल है . शर्मा ने केहा कि सभी सात स्थानों पर 25-25 स्वास्थ्यकर्मियों को बुलाया गया . इन सभी लोगों ने को-विन पोर्टल पर अपना पंजीकरण करा रखा है. उन्होंने कहा कि इस पूर्वाभ्यास के दौरान कोविड-19 टीकाकरण प्रक्रिया का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया .

शर्मा ने बताया कि पहले चरण में सरकारी एवं निजी क्षेत्र के 30 हजार से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जायेगा जिन्होंने पोर्टल पर पंजीकरण कराया है . इसके बाद आंगनवाड़ी कर्मियों को और 50 साल से अधिक उम्र आयु व 50 वर्ष से कम उम्र के उन लोगों को जिन्हें अन्य बीमारियां हैं, को टीका लगाया जाएगा. नवांशहर जिले के सिविल सर्जन राजिंदर प्रसाद भाटिया ने बताया कि जिले में भी पूर्वाभ्यास सफलता पूर्वक संपन्न हो गया . उन्होंने बताया कि इस अभ्यास के लिये जिले में पांच स्थान बनाये गये थे . भाटिया ने बताया कि लाभुकों को को-विन एप के माध्यम से एक दिन पहले ही इस अभ्यास में शामिल होने के लिये संदेश भेजे गये थे जो मंगलवार को नियत समय एवं स्थान पर पहुंच गये .

Newsbeep

उन्होंने बताया कि प्रतीक्षा कक्ष, टीकाकरण कक्ष, निगरानी कक्ष आदि का निर्माण किया गया था . भाटिया ने बताया कि इस पूर्वाभ्यास में प्रत्येक केंद्र पर पांच टीकाकरण अधिकारी एवं एक पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया था , इन्हें अलग अलग कार्य दिये गये थे . नवांशहर के जिला टीकाकरण अधिकारी दविंदर ढांडा ने कहा कि इस पूर्वाभ्यास का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य प्रणाली में कोविड-19 टीकाकरण के लिये निर्धारित मानकों का परीक्षण करना था ताकि किसी प्रकार की अंतरिक समस्या यदि हो तो उसका पता लगाया जा सके . उन्होंने बताया कि जिले में पांच स्थानों पर यह अभियान चलाया गया . 

 . 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

  •  
  •  
  •  
  •  
  •